Spread the love

दिल्ली बॉर्डर पर किसानों ने पक्के मकान बनाने किए शुरू

कुंडली बॉर्डर पर चल रहा किसान आंदोलन एक नया मोड लेता दिखाई दे रहा है आपको बता दें कि पिछले कुछ दिनों से सरकार और किसानों के बीच कोई भी बातचीत नहीं हो पाई है 22 जनवरी के बाद किसान और सरकार के बीच वार्ता ना होने के कारण किसानों ने फैसला लिया कि जब सरकार हमारी सुनने को तैयार नहीं है और हमें यही पर बैठे रहना है तो क्यों ना हम यहां पक्के घर बना ले

दिल्ली बॉर्डर पर किसानों ने पक्के मकान बनाने किए शुरू

कुंडली बॉर्डर पर पक्के मकान बनना शुरू हो गए हैं और उनके लिए लोगों ने मकान बनाने के लिए सामान भेजना शुरू कर दिया है किसानों ने कहा है कि यह सब सरकार की हठधर्मिता के कारण हो रहा है सरकार अपनी हठ छोड़ने को तैयार नहीं है इसलिए हमने यह फैसला लेना पड़ा जब पुलिस निर्माण कार्य को रोकने गई तो किसानों ने पुलिस से सवालों की बौछार की और इतने सवाल पूछे कि पुलिस में उनका कोई जवाब न था

यह भी पढ़े :मुख्यमंत्री खट्टर का बयान रद्द नहीं होंगे कृषि कानून

मुख्य बात यह है कि सरकार और किसानों के बीच कोई बातचीत ना होने के कारण किसान नेताओं से अन्य किसान भी नाराज होने लगे हैं और उनके नेतृत्व पर भी सवाल खड़ा होने लगा है इसलिए किसान नेता अब सरकार को बातचीत के लिए तैयार करने के लिए ऐसे कदम उठा रहे हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *