प्रदूषण
Spread the love

प्रदूषण को नियंत्रण में करने के लिए सुप्रीम कोर्ट बहुत बड़ा कदम उठा सकता है आपको बता दें कि हर वर्ष इसी समय दिल्ली एनसीआर समेत उत्तर भारत के कई राज्यों को प्रदूषण इसी तरह सताता है आंखें जल उठती है सांस लेना मुश्किल हो जाता है और हर बार राष्ट्रीय ग्रीन ट्रिब्यूनल इस चीज पर सरकार को फटकार भी लगाता है कई बार किसानों की पराली को लेकर सवाल उठते हैं लेकिन देखा जाए तो किसानों की पराली आजकल बिकती हैं तो जलाने के लिए कोई नहीं सोचता फिर भी प्रदूषण उच्चतम स्तर पर है तो इन सब की रोकथाम के लिए 2 या 3 दिन बहुत बड़ा कानून आ सकता है

कल सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश शरद अरविंद बोबडे की अध्यक्षता में सुनवाई हुई उन्होंने कहा कि लोगों का ऐसा हाल है कि सांसे लेना मुश्किल है सरकार इस पर जल्द से जल्द कानून लेकर आए कानूनों के नियम कुछ ऐसे हैं इससे प्रदूषण फैलाने वाले लोगों पर सख्त से सख्त कार्रवाई की जाए इसके अंतर्गत ज्यादा प्रदूषण वाली गाड़ियों से लेकर किसान की पराली और उद्योग धंधे भी आ सकते हैं फिलहाल देखना की कितने दिन के अंदर यह कानून पास किया जाता है

The Supreme Court

The Supreme Court can take a very big step to control the pollution. Let us tell you that every year at the same time, many states of North India including Delhi NCR are polluting in the same way, eyes are burning and breathing becomes difficult and every time The National Green Tribunal also rebukes the government on this matter, many times questions are raised about farmers ‘straw but if they are seen then farmers’ straw sticks are sold nowadays.

Nobody thinks to burn, yet pollution is at the highest level, then a big law can come for the prevention of all these in 2 or 3 days. Yesterday, a hearing was held under the chairmanship of Chief Justice Sharad Arvind Bobde of the Supreme Court.

Due to this, strict action should be taken against those who cause pollution, from the more polluting vehicles to the stumps of the farmer and the industries can also be present, to see how many days this law is passed.

One thought on “प्रदूषण नियंत्रण करने के लिए पास होगा बहुत बड़ा कानून”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *