Biggest mysteries of Kailash Parvat

यह दुनिया का सबसे ऊंचा पर्वत नहीं फिर भी क्यों कैलाश आज भी अजय है |

क्या सचमुच कैलाश पर भगवान शिव आज भी अपने परिवार सहित निवास करते हैं ? दुनिया के सबसे पवित्र पर्वत कैलाश से जुड़ी कहानियां अद्भुत है | इनमें कुछ सुनी सुनाई बातें हैं | कुछ आंखों देखी है | तो कुछ विज्ञान के पैमाने पर साबित भी हुई है | और आज हम बात करेंगे श्री कैलाश पर्वत से जुड़े कुछ ऐसे ही अद्भुत रहस्यों की |

दुनिया में ऐसी कई चोटियां है जहां इंसान के कदम कभी नहीं पड़े | लेकिन कोशिश करने के बाद भी जहां नहीं पहुंच सके कैलाश वह इकलौता  पर्वत है | कैलाश पर्वत की ऊंचाई दुनिया के सबसे ऊंचे पर्वत माउंट एवरेस्ट से लगभग 2200 मीटर कम है | फिर भी ऐसा क्यों है कि माउंट एवरेस्ट पर लोग 7000 से अधिक बार पहुंच  चुके हैं |

लेकिन कैलाश पर्वत अभी अजय है | कैलाश पर्वत को भगवान शिव का निवास स्थान माना जाता है |और यह हिंदुओं का सबसे पवित्र तीर्थ स्थल भी है | भगवान शिव के घर कैलाश पर्वत से जुड़े ऐसे अनेक रहस्य हैं | जिन पर बड़े बड़े वैज्ञानिक द्वारा शोध किए जा रहे हैं | लेकिन ऋषि मुनियों के अनुसार उस भोले के निवास के रहस्य को समझाना  किसी साधारण मनुष्य के बस की बात नहीं | कैलाश पर्वत के बारे में तिब्बतियों के धर्मगुरु बताते हैं |

 कि कैलाश पर्वत के चारों ओर एक अलौकिक शक्ति का प्रवाह होता है | और यह शक्तियां कोई आम नहीं बल्कि अद्भुत है | कहा जाता है कि आज भी कुछ तपस्वी शक्तियों के माध्यम से आध्यात्मिक गुरुओं के साथ संपर्क करते हैं | कैलाश पर्वत समुद्र तल से लगभग 22068 फीट ऊंचा है |

हिमालय के उत्तरी क्षेत्र तिब्बत में स्थित है |

क्योंकि तिब्बत चीन के अधीन है| इसलिए कैलाश पर्वत चीन में आता है| जानकारों के अनुसार कैलाश पर्वत के महत्व को ऊंचाई से नहीं बल्कि इसके विशेष आकार की वजह से समझा जाता है | इसका मुख्य कारण आने वाले कल के चार बिंदुओं जैसा माना जाता है |

कैलाश पर्वत से ही महान नदियों का उदय होता है |

1 सतलुज

2 सिंधु

3 ब्रह्मपुत्र और घागरा यह चारों नदिया इस क्षेत्र को चार अलग-अलग हिस्सों में बांटती है | जो पूरे विश्व के 4 भावों को दर्शाता है

कैलाश पर्वत के केंद्र में है |

 लिहाजा कैलाश का केंद्र बिंदु माना जाता है |

यहां दिशा सूचक यंत्र कंपास भी ठीक से काम नहीं करता क्योंकि चारो दिशा  यहीं आकर मिलती है |

कैलाश पर्वत का सबसे रहस्य तथ्य यही है|  कि यहां समय तेजी  बीतता है |आप माने या न माने लेकिन कैलाश पर्वत पर समय अन्य क्षेत्रों की तुलना में तेजी से बीता है वहां जाने वाले यात्रियों और वैज्ञानिकों ने अपने बाल और नाखून को तेजी से बढ़ते हुए महसूस किया है | जिसके आधार पर उनका अनुमान है | कि कैलाश पर्वत पर समय तेजी से बीता है | हालांकि वैज्ञानिक इसके पीछे के कारण को ढूंढने में असफल रहे हैं |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *